सोशल मीडिया पर पहले से ज्यादा खतरनाक खतरा मंडरा रहा है, जिसे हर यूजर को जान लेना चाहिए

By Saurabh Mishra

सोशल मीडिया जब से अस्तित्व में आया है, तभी से उससे जुड़े खतरे भी सामने आ रहे हैं। जैसे लोगों की आईडी हैक करना, इनबॉक्स में पैसे की मांग करना और आपत्तिजनक फोटो शॉप तस्वीरें भेज कर ब्लैक मेल करना।

अब इसी कड़ी में एक नई चीज़ सामने आई है। न्यूज़ 18 की रिपोर्ट के मुताबिक अब सोशल मीडिया यूजर्स को एक नए तरीके से ब्लैकमेल किया जा रहा है कि उनके मैसेजे का स्क्रीनशॉर्ट वायरल कर दिया जाएगा। इससे बचने के लिए यूजर्स मुहमांगी कीमत देने के लिए भी मजबूर हो रहे हैं।

साइबर एक्सपर्ट्स का मानना है कि यह तरीका हैकिंग और ब्लैकमेलिंग के तमाम तरीकों में सबसे ज्यादा खतरनाक है। इसमें व्यक्ति से पैसे ऐंठने के साथ-साथ उसके आपत्तिजनक मैसेज के स्क्रीनशॉर्ट भी शेयर किए जा रहे हैं। ये वो स्क्रीनशॉर्ट हैं जो मैसेज यूजर ने कभी किए ही नहीं है बल्कि उसके नाम और अकॉउंट को हैक करके हैकर ने ही किए हैं। ऐसे मामलों में पुलिस और एक्सपर्ट्स को अपराधियों को पकड़ना भी मुश्किल हो रहा है।

दिल्ली पुलिस के साथ मिलकरसोशल नेटव‍र्किंग साइट्स अकाउंट बनाने वाले यूजर्स के लिए बुरी खबर है. मार्केट में साइबर फ्रॉड का एक नया तरीका आ चुका है. अभी त‍क यूजर का फेसबुक अकाउंट हैक करके या उसके नाम से ही नया अकाउंट बनाकर यूजर के परिचितों से पैसे मांगने का चलन था. जिसके चलते सैकड़ों लोग इस फ्रॉड के शिकार हुए लेकिन अब साइबर मार्केट में फ्रॉड का एक नया ही तरीका सामने आया है. यह नया तरीका पूरी तरह स्‍क्रीनशॉट ब्‍लैकमेलिंग है. जिससे बचने के लिए यूजर अपराधियों को मुंहमांगी कीमत भी देने को मजबूर हो जाता है.

साइबर एक्‍सपर्ट्स की मानें तो यह तरीका पहले से भी ज्यादा खतरनाक हैं। इसमें यूजर्स से पैसे मांगने के साथ-साथ, उसके आपत्तिजनक स्क्रीनशॉर्ट भी शेयर किए जा रहे हैं। ये वो स्क्रिशॉर्ट हैं जो मैसेज यूजर्स ने कभी किए ही नहीं है बल्कि उनके नाम और अकॉउंट को हैक करके हैकर ने किए हैं। पुलिस और एक्सपर्ट्स को इन आपराधियों को पकड़ने में खासा मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है।

दिल्‍ली पुलिस के साथ मिलकर हैकिंग और साइबर इश्‍यूज पर काम कर रहे साइबर एक्‍सपर्ट मोहित यादव का कहना है कि आजकल साइबर फ्रॉड के मामले तेजी से बढ़े हैं. इनमें भी नए-नए मामले देखने को मिल रहे हैं. रोजाना ऐसे केस अमूमन आ ही जाते हैं. यह खासतौर पर उन लोगों के साथ हो रहा है जो अपने फेसबुक अकाउंट्स की डिटेल्‍स पब्लिक रखते हैं. खासतौर पर अपनी फ्रें‍डलिस्‍ट को. फेसबुक पर दोस्‍तों की लिस्‍ट को लॉक रखना आज सबसे ज्‍यादा जरूरी है. इसके अलावा फोटोज को भी पब्लिक रखना मुसीबत बन सकता है क्‍योंकि रिमोट एरिया में बैठकर इन गति‍विधियों को अंजाम देने वाले साइबर फ्रॉड के अपराधियों को पकड़ना मुश्किल होता जा रहा है.

ऐसे होता है स्‍क्रीनशॉट ब्‍लैकमेलिंग

सबसे पहले अपराधी आपका असली अकाउंट देखते हैं, आपकी लिखने की भाषा, आपके पूरे व्‍यवहार को एनालिसिस करते हैं. फिर आपकी नई आईडी बनाते हैं. आपकी ही फ़ोटो लगाते हैं. फिर आपके नाम से बनी आइडी के साथ अपनी ही एक दूसरी फेक आईडी से चैट करते हैं. अगर आप महिला हैं तो ये अपनी पुरुष वाली फेक आईडी से और अगर आप पुरूष हैं तो ये अपनी महिला वाली फेक आईडी से चैट करते हैं. यह चैट आपत्तिजनक होती है. इस चैट में कई दिन भी लग सकते हैं.

इस चैट का ये स्‍क्रीनशॉट खींचते हैं और आपके असली अकाउंट के मैसेंजर में भेजते हैं. फिर आपको संपर्क करने के लिए कहते हैं. जब आप मैसेंजर पर कॉल करते हैं तो ये अपनी मांग आपके सामने रखते हैं या मैसेंजर पर ही अकाउंट नंबर देकर पैसे डालने के लिए कहते हैं. ऐसा न करने पर स्‍क्रीनशॉट वायरल करने की धमकी देते हैं. चूंकि स्‍क्रीनशॉट में आपका फोटो और आपका ही नाम होता है तो इसके वायरल होने से क्‍या तकलीफ हो सकती है आप ये अंदाजा लगा सकते हैं. इस तरह ये स्‍क्रीनशॉट ब्‍लैकमेलिंग का खेल करते हैं और लोग हजारों रुपये इनके अकाउंट में ट्रांसफर कर देते हैं.

मोहित कहते हैं कि साइबर फ्रॉड के ऐसे मामले सामने आ रहे हैं. ऐसे में अगर किसी का स्‍क्रीनशॉट वायरल होता दिखाई दे, तो ये जरूरी नहीं कि यह चैट उसी शख्‍स ने की है, यह हैकर और अपराधियों की साजिश भी हो सकती है.

मोहित कहते हैं कि जरूरी है कि लोग अपने फेसबुक अकाउंट पर अपनी पर्सनल चीजों को पब्लिकली शेयर करने से बचें. इसके साथ ही उन लोगों को अपनी फ्रेंडलिस्‍ट में बिल्‍कुल न जोड़ें जिन्‍हें आप जानते नहीं हैं या जो पहले से आपके मित्र हैं और दोबारा उनके नाम से आपके पास फ्रेंड रिक्‍वेस्‍ट आई हो.

Leave a Reply