50 हजार सैनिक चीनी सीमा पर पहुंचे, युद्ध अभ्यास हुआ तेज़

नई दिल्ली: भारत ने चीन (China) से मुकाबले के लिए ऐतेहासिक कदम उठाया है। जिसे लेकर चीन में भय का माहौल है। इस फैसले के बाद चीन अपने कदम पीछे खींचने को मजबूर है। जानकारियों के अनुसार भारत ने पिछले कई महीनों से चीनी सीमा से सटे कई अलग-अलग इलाकों में सैन्य टुकड़ियों और फाइटर विमानों को तैनात किया है। इसके साथ ही सेना ने भी युद्ध अभ्यास तेज़ कर दिया है। इन सब को देख चीन के पोरों तले जमीन खिसकता जा रहा है।

पूरी बात ये है कि चीन की ओर से गलवान घाटी में किये गए कायराने हमले का जवाब देने को भारत ने भी कमर कस लिया है। इसी सिलसिले में भारत ने ये कदम उठाया है।

भारत ने 50,000 से अधिक सैनिकों को चीनी सीमा पर भेजा है,साथ ही कई फाइटर विमान,तोप व टैंक को भी भारी संख्या में तैनात किया है।बीते कुछ महीनों से लगातार चीनी सीमा से सटे कई इलाकों में भारत ने सैनिक बल बढ़ाया है।इन सब का उद्देश्य चीन को माकूल जवाब देना है।

ये भी पढ़ें :- इटली के एक असाधारण कवि लाऊरो डी बोसिस ,विमान संचालन से अंतिम यात्रा तक !

क्या है पूरा मामला

ये जानना आवश्यक है कि पिछले साल गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों में हुई झड़प व हिंसा के बाद सरकार सतर्क हो गयी है। सतर्कता का प्रमाण ये है कि हिंसा के बाद से ही भारत ने अब तक चीन की सीमा पर नज़र रखने के लिए करीब 2 लाख सैनिकों को तैनात कर दिया है जोकि पिछले वर्ष के मुकाबले लगभग 40 प्रतिशत अधिक है।

रक्षा मंत्री का बयान

इन सबको देखने के बाद ये तो समझा जा सकता है कि भारत अब डरने वालों में से नहीं बल्कि ईंट का जवाब पत्थर से देगा।
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सोमवार को अपने बयान में चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि, ‘भारतीय सशस्त्र बल हर चुनौती का मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं।’ रक्षा मंत्री के लद्दाख दौरे से ये भी साफ हो गया कि भारत जल्द ही चीन को कोई बड़ा जवाब देनेवाला है,जिसके लिए भारतीय सैनिकों ने लड़ाकू विमानों से युद्धाभ्यास तेज़ कर दिया है।

ये भी पढ़ें : –रवीश का लेख : प्रधानमंत्री जी one earth, one health की जगह one earth one nation कैसा रहेगा !

गलवान घाटी हिंसा

ज्ञात हो कि पिछले वर्ष 15 जून को लद्दाख के गलवान घाटी में भारत और चीन सीमा के बीच हिंसक झड़प हुई थी।इस झड़प में 20 भारतीय सैनिक मारे गए थे।जबकि इस साल फरवरी में चीन ने आधिकारिक तौर पर स्वीकार किया था कि भारतीय सैनिककर्मियों के साथ झड़प में 5 चीनी सैन्य अधिकारी और जवान मारे गए।पिछले साल आमने-सामने आये दोनों देशों के सैनिक अब भी एक दूसरे पर नज़र गड़ाए हुए हैं।

एक तरफ चीन जहां दुनियाभर में शांति का ढिंढोरा पीट रहा है तो वहीं भारतीय सीमा पर तैनात चीनी सैनिकों को उकसाने में लगा है। जिसका पता अब भारत को लग चुका है और भारत भी उसके हर हमले का जवाब देने को तैयार बैठा है।भारत ने चीन को उसी की भाषा में जवाब देने का मन बना लिया है। ऐसे में चीन को ऐसी कोई योजना बनाने से पहले कई बार सोचना चाहिए।

Leave a Reply