Bengal Elections से पहले RSS चीफ़ से मिले मिथुन चक्रवर्ती, क्या है चुनावी मायने ?

मोहन भागवत ने की मिथुन चक्रवर्ती से मुलाक़ात, मिथुन ने मुलाक़ात को बताया ग़ैर-राजनीतिक

मुंबई : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने मंगलवार को मिथुन चक्रवर्ती से मुलाकात की। यह मुलाकात मड आइलैंड में मिथुन के घर पर हुई। मई-जून 2020 में होने वाले बंगाल चुनावों में बहुत कम समय बचा है। इसके चलते मिथुन और भागवत की मुलाक़ात के राजनीतिक कनेक्शन होने के अनुमान लगाये गये। सभी अनुमानों को विराम देते हुए मिथुन चक्रवर्ती ने बताया कि यह मुलाक़ात ग़ैर-राजनीतिक थी। मीडिया से बात करते हुए मिथुन ने कहा “बैठक में कोई राजनीतिक बात नहीं हुई। हम पहले भी मुंबई में मिलते रहे हैं।” मिथुन ने यह भी बताया कि उन्होंने मोहन भागवत के साथ बैठकर नाश्ता किया। यह मीटिंग क़रीब एक घण्टे तक चली।

यह भी पढ़ें – भू-स्थानिक डेटा का उदारीकरण करना कहां तक सही ?

मोहन भागवत और मिथुन चक्रवर्ती
मोहन भागवत और मिथुन चक्रवर्ती

हमारा रिश्ता आध्यात्मिक है

मिथुन ने यह भी बताया कि भागवत और उनका रिश्ता ‘आध्यात्मिक’ है। मिथुन ने कहा “उन्होंने मुझसे पहले ही मुंबई में मिलने का वादा किया था। जैसे ही मैं लखनऊ से शूटिंग करके वापिस आया, वह मुझसे मिलने आ गये। ज़ाहिर सी बात है कि अगर वह घर आए हैं तो हमारे बीच अच्छा मेल-मिलाप होगा।” जब मिथुन से बंंगाल चुनावों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने मज़ाकिया अंदाज़ में कहा कि वह भाजपा का चेहरा बन सकते हैं।

आगामी बंगाल चुनावों की सरगर्मियां तेज़ हो गई हैं। बंगाल में शासन कर रही टीएमसी (TMC) और भाजपा (BJP) के बीच कड़ी टक्कर होने का अनुमान है। ममता बनर्जी का पलड़ा बंगाल में भारी है। जीत सुनिश्चित करने के लिए भाजपा भी पुरज़ोर कोशिश कर रही है। गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पूरे राज्य में ‘परिवर्तन यात्रा’ भी निकाली है। दूसरी तरफ़ कॉंग्रेस (Congress) ने यह ऐलान किया है कि वह लेफ़्ट के साथ मिलकर चुनाव लड़ने की घोषणा की है।

यह भी पढ़ें –मिस पूजा और देव कुमार देवा के गाने ‘किलर क्वीन’ ने मचाई धूम

Leave a Reply