12 विधायकों का दलबदल, कांग्रेस और TMC के लिए क्या मायने, सरकार के लिए कितना खतरा?

पूर्व मुख्यमंत्री मुकुल संगमा की अगुवाई में मेघालय में कांग्रेस के 17 में से 12 विधायक पिछले दिनों पार्टी बदलते हुए तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। हालिया दलबदल एक और राज्य में कांग्रेस के गिरावट का प्रतीक है। विधायकों के दलबदल करने और तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने के बाद कांग्रेस अब मेघालय में मुख्य विपक्षी दल का दर्जा खो देगी।

अरुणाचल प्रदेश में, मुख्यमंत्री पेमा खांडू सहित तत्कालीन 44 कांग्रेस विधायकों में से 43 ने सितंबर 2016 में कांग्रेस छोड़ दी थी, पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल में शामिल हो गए और सत्ता में बने रहे। कुछ समय बाद पेमा खांडू और बड़ी संख्या में विधायक भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हो गए।

इस बदलाव से अरुणाचल प्रदेश में, बीजेपी रातोंरात सत्ताधारी पार्टी बन गई और अब यही प्रक्रिया मेघालय में अपनाई गई और तृणमूल यहां पर मुख्य विपक्षी दल बनने के लिए तैयार है।

मुकुल संगमा क्यों परेशान थे

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, कांग्रेस विधायक दल के नेता संगमा अगस्त से परेशान थे, जब पार्टी केंद्रीय नेतृत्व ने शिलांग के सांसद विंसेंट पाला को सेलेस्टीन लिंगदोह की जगह राज्य कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त कर दिया था। संगमा और गारो हिल्स के एक दर्जन विधायक सितंबर में शिलांग में पाला और नवनियुक्त कार्यकारी अध्यक्षों को सम्मानित करने के लिए आयोजित एक समारोह में शामिल नहीं हुए थे।

अक्टूबर की शुरुआत में, ऐसी खबरें थीं कि संगमा ने कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस के एक नेता और गुवाहाटी में असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा से मुलाकात की थी। हालांकि संगमा ने इन सब बातों का खंडन किया, लेकिन कांग्रेस नेतृत्व ने संगमा सहित पूरे मेघालय नेतृत्व को उस महीने दिल्ली बुलाया। कांग्रेस ने तीन विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव से पहले एकता का संदेश देने की कोशिश की, जिनमें से सभी को अंततः हार का सामना करना पड़ा।

दूसरी ओर, कांग्रेस के सूत्रों का कहना है कि संगमा कुछ समय से पार्टी के मामलों में सक्रिय रुचि नहीं ले रहे थे, जबकि पार्टी ने उन्हें उत्तर पूर्व समन्वय कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बना दिया था।

तो क्या फंड का मुद्दा था

सूत्रों का कहना है कि मुकुल संगमा को लगा कि कांग्रेस पार्टी के प्रचार के लिए बड़े पैमाने पर फंड नहीं दे पाएगी, उन्हें लगा कि तृणमूल में उन्हें ऐसी स्थिति का सामना करना नहीं पड़ेगा।

प्रशांत किशोर की टीम का खेला!

सूत्रों का कहना है कि तृणमूल कांग्रेस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर की टीम के सदस्य पिछले दो महीनों से शिलांग में डेरा डाले हुए थे और विधायकों को पक्ष बदलने के लिए मनाने की कोशिश में जुटे थे। उनका काम विधायकों को यह विश्वास दिलाना था कि यदि उनमें से अधिकांश ने पार्टी बदल लिया, तो वे दलबदल विरोधी कानून के तहत कार्रवाई से बच जाएंगे।

प्रदेश कांग्रेस के सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय नेतृत्व को इन सब की जानकारी थी। तालमेल के एक अन्य प्रयास में, एआईसीसी महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल और मेघालय के एआईसीसी प्रभारी मनीष चतरथ ने 18 नवंबर को संगमा, पाला, वरिष्ठ नेताओं चार्ल्स पायंगरोप और एमपीसीसी के कार्यकारी अध्यक्षों अम्परिन लिंगदोह, मार्थन संगमा और जेम्स लिंगदोह से मुलाकात की।

बैठक के बाद, संगमा और पाला ने एक संयुक्त बयान जारी कर पार्टी की सभी ताकतों को मजबूत करने का संकल्प लिया ताकि 2023 के विधानसभा चुनावों में बाधाओं और चुनौतियों को प्रभावी ढंग से दूर किया जा सके। लेकिन तब तक, कांग्रेस के केंद्रीय नेताओं को यह एहसास हो गया था कि संगमा ने पहले ही अपना मन बना लिया है, और वह नेतृत्व की सवारी कर रहे हैं।

कहा जाता है कि प्रशांत किशोर ने गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री लुइजिन्हो फलेरियो और कुछ अन्य लोगों को तृणमूल कांग्रेस में लाने में भी भूमिका निभाई थी। दिलचस्प बात यह है कि किशोर कुछ महीने पहले राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के संपर्क में थे, और उनके कांग्रेस में शामिल होने के कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन किशोर को शामिल करने को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेतृत्व के बीच बेचैनी और नाराजगी को देखते हुए पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी ने इस प्रस्ताव को ठंडे बस्ते में डालने के लिए प्रेरित किया।

लगातार कमजोर पड़ रही कांग्रेस

2018 के विधानसभा चुनावों में, कांग्रेस, जो उस समय तक सत्ता में थी, 60 सदस्यीय सदन में 21 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी। नेशनल पीपुल्स पार्टी ऑफ के कॉनराड संगमा, जो अब मुख्यमंत्री हैं, 19 सीटों के साथ दूसरे स्थान पर आए थे। फिर भी भाजपा ने संगमा की एनपीपी, कुछ छोटी पार्टियों और एक निर्दलीय विधायक को एक साथ लेकर आई ताकि कांग्रेस को सत्ता में आने से रोका जा सके।

कांग्रेस ने अपने शीर्ष नेताओं (दिवंगत अहमद पटेल, तत्कालीन कांग्रेस महासचिव सीपी जोशी, मुकुल वासनिक और कमलनाथ) को सरकार गठन के सभी विकल्पों का पता लगाने के लिए शिलांग भेजा था, लेकिन तब तक हिमंत बिस्वा सरमा ने बाजी मार ली और कांग्रेस सरकार बनाने से चूक गई।

हालांकि अब इस टूट के बाद यह धारणा और गहरी होगी कि कांग्रेस विभिन्न राज्यों में अपना घर ठीक नहीं कर पा रही है। वैसे भी, पार्टी इस धारणा को दूर करने के लिए अब तक संघर्ष कर रही है कि वह डूब रही है। मेघालय में उसके लिए फिर से अपने पैरों पर खड़ा होना मुश्किल होगा।

राज्य में तृणमूल कांग्रेस का उदय

कांग्रेस में विभाजन से मेघालय के राजनीतिक समीकरण भी बदल जाएंगे। तृणमूल कांग्रेस का उदय जिसके पास धन की कोई कमी नहीं है और प्रशांत किशोर जैसे चुनावी रणनीतिकार भी साथ हैं, ऐसे में सत्तारूढ़ व्यवस्था के लिए भी यह एक चुनौती बन सकती है।

तृणमूल कांग्रेस के आक्रामक विस्तार अभियान ने असंतुष्ट कांग्रेस नेताओं के लिए एक धर्मनिरपेक्ष विकल्प खोल दिया है, जो भाजपा में शामिल होने की जगह कोई और रास्ता तलाश रहे थे।

Leave a Reply