Delhi Power Crisis: ‘सप्लाई नहीं आई तो दो दिन बाद पूरी दिल्ली में ब्लैक आउट होगा’

Delhi Power Crisis: दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) को पत्र लिखा है और दिल्ली में आपूर्ति करने वाले बिजली संयंत्रों को पर्याप्त कोयला, गैस आपूर्ति के लिए उनके हस्तक्षेप की मांग की है. वहीं, दिल्ली के ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोयला किसी के पास नहीं है. हमारी पीएम से मांग है कि जल्द से जल्द कोयला दिलाया जाए.

अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए कहा, “दिल्ली को बिजली संकट का सामना करना पड़ सकता है. मैं व्यक्तिगत रूप से स्थिति पर कड़ी नजर रख रहा हूं. हम इससे बचने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. इस बीच, मैंने प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखकर उनके व्यक्तिगत हस्तक्षेप की मांग की.”

ये भी पढ़ें :- Lakhimpur Violence: CJI की यूपी सरकार को फटकार, पूछा- ये क्या रवैया है?

सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोई भी प्रोजेक्ट अपनी क्षमता के हिसाब से काम नहीं कर रहे हैं. हमें कम बिजली मिल रही है. ना गैस दे रहे हैं, ना कोयला दे रहे है. क्या ये मानव-निर्मित तो नहीं है? उन्होंने कहा कि लगता है जानबूझकर ऐसा किया जा रहा है. राजनीति के लिए हो सकता है. मानव-निर्मित ही लग रहा है, जिस तरह से ऑक्सीजन के लिए हुआ था. बवाना में प्लांट दिल्ली में दो दिन की दिक्कत को हमने खत्म कर दिया है. अगर केंद्र सरकार मन बना ले कि ना हमे गैस देंगे या ना कोयला देंगे तो दिल्ली में बिजली बंद होगी. पूरे देश में कोयले से चलने वाले पावर प्लांट में कोयले की बहुत कमी है.

मंत्री ने कहा, ऐसा लगता है कि यह मैन मेड क्राइसिस है, ऐसी राजनीति चलती है कि क्राइसिस क्रिएट करो तो लगेगा कुछ बड़ा काम किया है. जैसे ऑक्सीजन का क्राइसिस हुआ था, वो भी मैन मेड ही था, फिर से वैसी ही क्राइसिस नजर आ रही है कि कोयले की सप्लाई बंद कर दो. इस देश में कोयला उत्पादित होता है, देश में पावर प्लांट हैं और जितनी डिमांड है, उससे साढ़े 3 गुना प्रोडक्शन की हमारी क्षमता है, इसलिए लगता है कि यह मैन मेड क्राइसिस है.

साथ ही उन्होंने कहा, बवाना में हमारा 1300 मेगावाट का प्लांट है, जो गैस से चलता है, वहां गैस की सप्लाई कल बंद कर दी गई. केंद्र से हमने सप्लाई की मांग की, जिसके बाद सप्लाई मिल रही है. दिल्ली की तीनों कंपनियां खुद प्रोडक्शन नहीं करती हैं, दिल्ली में कोई भी कोयले का प्लांट नहीं है, तीन छोटे-छोटे प्लांट हैं, जहां गैस से प्रोडक्शन होता है. हम केंद्र के प्लांट पर डिपेंड हैं. अगर सप्लाई नहीं आती है, तो दो दिन बाद पूरी दिल्ली में ब्लैक आउट होगा.

ये भी पढ़ें :-Petrol-Diesel की कीमतों में राहत, जानिए क्या है रेट ?

Leave a Reply