सचिन तेंदुलकर की यह सलाह मानी तो दक्षिण अफ्रीका में भारत बदल सकता है इतिहास!

गॉड ऑफ क्रिकेट कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर सर्वकालिक सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक है। तेंदुलकर ने दक्षिण अफ्रीका की कठिन पिच पर भारत को कई मैचों में जीत का स्वाद चखवाने में मदद की है। भारत भले ही कभी दक्षिण अफ्रीका से टेस्ट सीरीज नहीं जीता हो लेकिन 1992, 1996, 2001, 2006, 2010 का हिस्सा रहे सचिन तेंदुलकर ने दक्षिण अफ्रीका में पांच शतक लगाए हैं। अब टीम इंडिया एक बार फिर से दक्षिण अफ्रीका के साथ भिड़ने के लिए दक्षिण अफ्रीका रवाना हो गयी हैं। भारत और दक्षिण अफ्रीका की तीन मैचों की टेस्ट सीरीज 26 दिसंबर से शुरू होने वाली हैं। ऐसे में महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के पास दक्षिण अफ्रीका दौरे पर भारत के बल्लेबाजों को जीत के लिए दो मूलमंत्र दिया है। भारतीय बल्लेबाजों के लिए उनका पहला मूलमंत्र है कि पहले 25 ओवरों के लिए फ्रंट फुट डिफेंस पर ध्यान दें। दूसरा मंत्र है किनारा करने से बचने के लिए सुनिश्चित करें कि हाथ शरीर से बहुत दूर न जाएं।

दक्षिण अफ्रीका दौरे से पहले सचिन तेंदुलकर का बल्लेबाजों को मूलमंत्र

तेंदुलकर ने कहा, मैंने हमेशा कहा है, फ्रंट फुट डिफेंस महत्वपूर्ण है और फ्रंट फुट डिफेंस की गिनती यहां होगी। पहले 25 ओवर, फ्रंट फुट डिफेंस महत्वपूर्ण होने वाले हैं। खेलते समय हाथ शरीर से दूर नहीं जा रहे थे। जब आपके हाथ आपके शरीर से दूर जाने लगते हैं, तब आप धीरे-धीरे, लेकिन निश्चित रूप से नियंत्रण खोना शुरू करते हैं। लेकिन वहां पर खेलते समय आपको यह ध्यान रखना है कि आपके हाथ शरीर से दूर न जाएं इससे लंबे समय तक टिका जा सकता है।

बल्लेबाजों के लिए दक्षिण अफ्रीका की पिच है सबसे मुश्किल

दक्षिण अफ्रीका की पिच बल्लेबाजों के लिए सबसे कठिन पिचों में से एक है जहां पारंपरिक रूप से तेज गेंदबाजों का दबदबा रहा है। यह एक ऐसी जगह जहां भारत ने कभी टेस्ट सीरीज नहीं जीती है। यह एक ऐसी धारण है जिसे इस बार विराट कोहली की कप्तानी में बदने की लोग उम्मीद कर रहे हैं। तेंदुलकर ने बोरिया के साथ बैकस्टेज पर कहा दक्षिण अफ्रीका में जीत के लिए जरूरी है कि उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि शीर्ष क्रम घरेलू तेज गेंदबाजों के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन करे, खासकर जब गेंद नई हो। मैंने हमेशा कहा है, फ्रंट फुट डिफेंस महत्वपूर्ण है। सामने की ओर, सामने के पैर की रक्षा महत्वपूर्ण है। और वह यहाँ गिना जा रहा है। पहले 25 ओवर, फ्रंट फुट डिफेंस महत्वपूर्ण होने वाला है।

तेंदुलकर ने इंग्लैंड में केएल राहुल और रोहित शर्मा के प्रदर्शन की तारीफ की

तेंदुलकर ने समझाया कि इंग्लैंड दौरे के दौरान, रोहित शर्मा और केएल राहुल ने काफी रन बनाए, जिसके लिए तेंदुलकर ने एक साधारण समायोजन को जिम्मेदार ठहराया। राहुल और रोहित ने इंग्लैंड टेस्ट के दौरान एक ‘शानदार काम’ किया और शरीर के करीब हाथ रखने के महत्व को दोहराया। वे मौके पर पीटे गए और यह ठीक है। हर बल्लेबाज पिट जाता है। गेंदबाज वहां विकेट लेने के लिए हैं, तो कोई बात नहीं। लेकिन जब आपके हाथ आपके शरीर से दूर जाने लगते हैं, तब आपके गेंद को किनारे करने की संभावना होती है।

Leave a Reply