Metro Man: हिन्दू और ईसाई मज़हब की लड़कियों को फंसाया जा रहा

एनडीटीवी को दिये गए इंटरव्यू में श्रीधरण ने कहा कि हिन्दू और ईसाई मज़हब की लड़कियों को फंसाया जा रहा है

मेट्रो मैन के नाम से पहचाने जाने वाले ई. श्रीधरण ने भाजपा में शामिल होने का फ़ैसला किया है। भारत में यातायात का कायापलट करने वाले श्रीधरण केरल भाजपा से जुड़ना चाहते हैं। श्रीधरन का कहना है कि वह केरल में भाजपा की सरकार बनाने का लक्ष्य रखते हैं। ऐसा होने पर वह केरल के मुख्यमंत्री बनना पसंद करेंगे।

बीते शुक्रवार को श्रीधरण ने एनडीटीवी को एक इंटरव्यू दिया। इस इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि वह लव जिहाद क़ानून का समर्थन करते हैं। जब श्रीधरण से सवाल किया गया कि लव जिहाद कानून पर उनकी क्या राय है तो उन्होंने कहा कि वह इस कानून का समर्थन करते हैं। एनडीटीवी से बात करते हुए श्रीधरण ने कहा “केरल में जो कुछ हुआ वह मैंने देखा। किस तरह हिन्दुओं से धोखे से शादी की जाती है। केवल हिन्दू ही नहीं, ईसाई लड़कियों से भी धोखे से शादी की जाती है। मैं ऐसी चीज़ का पूरा विरोध करता हूँ।”

ग़ौरतलब है कि कई राज्यों के हाई कोर्ट लव जिहाद कानून का विरोध कर रहे हैं। नवंबर 2020 में इलाहबाद हाई कोर्ट ने अंतर्धार्मिक विवाह (interfaith marriage) के पक्ष में फ़ैसला सुनाते हुए कहा था कि “एक ऐसे व्यक्ति की पसंद की उपेक्षा करना जो बालिग़ है, न केवल एक बड़े व्यक्ति की पसंद की स्वतंत्रता का विरोध होगा, बल्कि विविधता में एकता की अवधारणा के लिए भी खतरा होगा।”

यह भी पढ़ें –आख़िर क्यों सिलिकॉन वैली छोड़ गांव गए श्रीधर वेम्बु ?

Metro Man E Sreedharan
Metro Man E Sreedharan

यह भी पढ़ें –Explained: कैसे उत्तराखंड फ्लैश बाढ़ ने अलकनंदा का रंग बदल दिया है


इसके अलावा जनवरी 2021 में भी इलाहबाद उच्च न्यायालय ने एक शादी-शुदा जोड़े को परेशान करने के लिए यूपी पुलिस को फटकार लगाई थी। बीती जनवरी में गुजरात उच्च न्यायालय ने भी एक फ़ैसले में अंतर्धार्मिक विवाह का समर्थन किया था। दअरसल गुजरात पुलिस ने एक मुस्लिम व्यक्ति और उसकी पत्नी, जो हिन्दू धर्म से है, को गिरफ़्तार कर लिया था। गुजरात हाई कोर्ट ने पुलिस को ‘अनुचित व्यवहार’ करने के लिए फटकार लगाई थी। साथ ही हाई कोर्ट ने जोड़े को रिहा करने का आदेश भी दिया था।

श्रीधरण का कहना है कि हिन्दू और ईसाई मज़हब की लड़कियां लव जिहाद के जाल में फंस रही हैं। हालांकि केंद्र सरकार या महिला आयोग (NCW) के पास कोई आंकड़े मौजूद नहीं हैं। केंद्र सरकार के पास ‘लव जिहाद’ की कोई परिभाषा भी नहीं है।

किसी भी तरह के सबूत की कमी के बावजूद भाजपा लव जिहाद के हथकंडे का प्रयोग करती आयी है। यूपी, हरयाणा और कर्नाटक के बाद एमपी में भी यह कानून आ चुका है। केरल के चुनाव भी नज़दीक हैं। हो सकता है कि लव जिहाद के झूठ का इस्तेमाल श्रीधरण केरल चुनावों में करें। वह इसे किस तरह प्रस्तुत करेंगे यह समय ही बताएगा।

यह भी पढ़ें –भारत की नई शिक्षा नीति का उद्देश्य आत्मनिर्भरता की नींव रखना – PM Modi

Leave a Reply