कुछ अलग : आम का एक पेड़ जो देता है 121 किस्म के आम

नई दिल्ली: कहते हैं कि एक पेड़ एक ही किस्म का फल दे सकता है, लेकिन अगर हम कहे कि एक पेड़ 121 किस्म के फल दे रहा है तो शायद आप इस बात पर यकीन नहीं करेंगे मगर हकीकत यही है. सहारनपुर में एक ऐसा आम (Mango) का पेड़ है जो 1-2 नहीं बल्कि पूरे 121 किस्म के आम देता है.करीब दस साल की कड़ी मेहनत से तैयार हुआ ये आम का अनोखा पेड़ इन दिनों पूरे देश में चर्चा का विषय बना हुआ है.

सहारनपुर का कंपनी बाग शहर के बीचों-बीच है. शायद ही कहीं इतना बड़ा बाग होगा, जिसमें तरह-तरह के पेड़ लगे हुए हैं. मुगलकालीन इस बाग में विभिन्न शोध और बागबानी के प्रशिक्षण भी दिए जाते हैं.इसी कंपनी बाग में एक ऐसा अनोखा पेड़ है, जिसमें आम की 121 प्रजातियों के फल पैदा हो रहे हैं.करीब 10 साल पूर्व आम के पेड़ पर बांधी गई 121 कलम अब फल देने लगी है.

ये भी पढ़ें :- UP News : 1 जुलाई से खुलने जा रहे हैं स्कूल, अभिभावक इस बात से अनजान

121 किस्म के आम लगते हैं

अब इस पेड़ पर दशहरी, लंगड़ा, चौंसा, रामकेला, आम्रपाली, सहारनपुर अरुण, सहारनपुर वरुण, सहारनपुर सौरभ, सहारनपुर गौरव, सहारनपुर राजीव, लखनऊ सफेदा, टॉमी ऐट किंग्स, पूसा सूर्या, सैंसेशन, रटौल, कलमी मालदा, बांबे, स्मिथ, मैंगीफेरा जालोनिया, गोला बुलंदशहर, लरन्कू, एलआर स्पेशल, आलमपुर बेनिशा, असौजिया देवबंद समेत 121 किस्म के आम लगते हैं.

ये भी पढ़ें :- Hool Diwas: एक पूरे परिवार की आज़ादी में दी गयी बलिदानी की कहानी

इस पेड़ पर आम की 121 प्रजातियों के फल की पैदावार करने के लिए कंपनी बाग के पूरे स्टाफ को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी है.कंपनी बाग के मालिकों ने बताया कि इस पेड़ की देखभाल पूरे साल करनी पड़ती है. पानी, खाद और रोपाई, धुलाई करने के अलावा इस की टहनियों को टूटने से बचाने के लिए सहारा भी देना पड़ता है. आंधी तूफान के समय भी इसकी खास देखभाल की जाती है. लोगों से भी इसको दूर रखा जाता है.इस पेड़ की खासियत यह है कि इसमें अंगूर के दाने जितना बड़ा आम से लेकर 2 किलो वजन तक का आम पैदा होता है.

Leave a Reply