UP : मुस्लिम व्‍यक्ति पर हमला करने वाले आरोपियों को 24 घंटों में ही मिली जमानत

UP: उत्‍तर प्रदेश (UP) के कानपुर में एक 45 वर्षीय मुस्लिम रिक्‍शेवाले (45-year-old Muslim man) को पीट-पीटकर ‘जय श्रीराम’ बुलवाने के आरोप में अरेस्‍ट किए गए तीन आरोपियों को थाने से ही जमानत मिल गई है. बजरंग दल के लोगों ने आरोपियों को छुड़वाने के लिए रात तक डीसीपी दफ्तर के बाहर जबर्दस्‍त प्रदर्शन किया. जिस रिक्‍शावाले को पीटा था उसका परिवार इस कांड से दहशत में है. बेगुनाह को सरेआम पीटने वालों को छुड़वाने के लिए यह प्रदर्शन किया गया.

एक बजरंग दल कार्यकर्ता ने कहा, ‘बजरंग दल कानपुर के हिंदू समाज को आश्‍वस्‍त करता है कि जिसके भी द्वारा हमारे धर्म पर आघात किया जाएगा तो विश्‍व हिंदू परिषद, बजरंग दल शांत नहीं बैठने वाला.’ जिन्‍हें छुड़ाने के लिए प्रदर्शन किया जा रहा था, वे इस कांड के आरोपी हैं.ये आरोपी सरेआम मुस्लिम रिक्‍शेवाले अफसार को पीट-पीटकर ‘जय श्रीराम’ कहने के लिए मजबूर करते रहे. इस व्‍यक्ति की मासूम बच्‍ची चीख-चीखकर अपने पिता को छोड़ने की गुहार लगाती रही लेकिन इनका दिल नहीं पिघला.

ये भी पढ़ें :-OBC संशोधन : BJP को क्या मिल सकता है फायदा? क्या है यूपी चुनाव से कनेक्शन?

अफसार पर न कोई आरोप और न कोई FIR

अफसार पर न कोई आरोप है और न ही उसके खिलाफ कोई एफआईआर है. उसका कुसूर केवल यह है कि वह उस महिला का देवर है जिससे उसकी एक हिंदू पड़ोसन का झगड़ा हुआ है. इस घटना के पहले बजरंग दल ने क्षेत्र में एक सभा भी की थी.अफसार की पिटाई की तस्‍वीरें टीवी में देखकर गांव में रहने वाली उसकी मां काननुर आई तो मां-बेटा लिपट कर खूब राए.

अफसार की बीवी ने बताया कि पिता की इस तरह सड़क पर पिटाई से उनकी बच्‍ची पर बहुत बुरा असर हुआ है. अफसार की पत्‍नी रुबीना कहती है, ‘बच्‍ची दहशत में आ गई है. उसके मन में दहशत है.खाना पीना बिल्‍कुल नहीं खा रही है और न ही खेल रही है. वह डर रही है कि हम लोगों को मार न दें.’

ये भी पढ़ें :-Ravish का लेख: मोदी झोला लेकर चल नहीं पाए तो लोग चलेंगे मोदी झोला लेकर

कानपुर पुलिस कमिशनर को नोटिस जारी

बता दे उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) की एक बस्ती में मुस्लिम शख्स के साथ हुई मारपीट और जबरन धार्मिक नारे लगवाने के मामले में राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने संज्ञान लिया है और कानपुर पुलिस कमिशनर को नोटिस जारी किया है. नोटिस में पूछा गया है कि आरोपियों के ख़िलाफ़ क्या कार्रवाई हुई है? आयोग ने उन पुलिसकर्मियों पर की गई कार्रवाई का भी डिटेल्स मांगा है जो मुस्लिम शख्स के साथ होने वाली मारपीट के समय तमाशा देख रहे थे.

आयोग ने वायरल वीडियो के आधार पर पूछा है कि जो वीडियो में जो भी लोग नजर आ रहे हैं उनका कोई बयान दर्ज किया गया है या नहीं? आयोग ने कानपुर पुलिस कमिश्नर असीम अरुण को जल्दी ही सब सवालों के जवाब देने का आदेश दिया है.

Leave a Reply