क्या है Bulli Bai, जिसमें सोशल मीडिया पर मुस्लिम महिलाओं की फोटो हुईं अपलोड?

नई दिल्‍ली. दिल्ली पुलिस (Delhi Police) में एक महिला पत्रकार ने शनिवार को अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराकर आरोप लगाया कि मुस्लिम महिलाओं (Muslim Women) को शर्मिंदा करने और उनका अपमान करने के इरादे से उनकी ऐसी तस्वीर एक वेबसाइट पर डाली गई, जिससे छेड़छाड़ भी की गई थी. महिला पत्रकार ने दक्षिणी दिल्ली के सीआर पार्क थाने में ऑनलाइन शिकायत की जिसकी कॉपी उन्‍होंने अपने ट्विटर हैंडल पर साझा भी की. दिल्ली पुलिस ने ट्विटर पर जवाब दिया और कहा कि इस मामले का संज्ञान ले लिया गया है. लेकिन आखिर ये मामला है क्‍या? आइये जानते हैं…

रिपोजिटरी होस्टिंग सर्विस गिटहब (GitHub) पर बनाए गए एक विवादास्पद मोबाइल ऐप में मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरों को उनकी सहमति के बिना अपलोड किए जाने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों के बीच नाराजगी उत्‍पन्‍न कर दी है. ‘बुली बाई’ (Bulli Bai) नामक इस ऐप को कथित तौर पर मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरों की नीलामी करते हुए पाया गया था. कुछ महीनों बाद कुछ अज्ञात व्यक्तियों ने इसी तरह का ऐप ‘सुल्ली डील’ (Sulli Deal) बनाया, जिसमें सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं के सोशल मीडिया अकाउंट्स से ली गईं तस्‍वीरें अपलोड और नीलाम की गईं. सोशल मीडिया पर नाराजगी के बाद ऐप को हटा दिया गया था.

महिला पत्रकार ने सोशल मीडिया और इंटरनेट पर मुस्लिम महिलाओं को परेशान करने और उनका अपमान करने की कोशिश कर रहे अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ तत्काल प्राथमिकी दर्ज करने और जांच करने की मांग की है. उनकी ओर से शिकायत में कहा गया है, ‘मैं आज सुबह यह जानकर हैरान रह गई कि बुल्लीबाई डॉट गिथुब डाट आईओ नामक एक वेबसाइट/पोर्टल पर मेरी एक अनुचित, अस्वीकार्य तस्वीर है, जिससे छेड़छाड़ की गई है. इस संबंध में तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता है, क्योंकि इसका उद्देश्य मुझे और अन्य स्वतंत्र महिलाओं एवं पत्रकारों को परेशान करना है.’

वहीं शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने शनिवार को कहा कि होस्टिंग प्लेटफॉर्म गिटहब का इस्तेमाल करते हुए सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें एक ऐप पर अपलोड की गई हैं. चतुर्वेदी ने कहा कि उन्होंने इस मामले को मुंबई पुलिस के सामने उठाया है और मांग की है कि दोषियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाना चाहिए.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘मैंने मुंबई पुलिस आयुक्त और पुलिस उपायुक्त (अपराध) रश्मि करांदिकर जी से बात की है. वे इसकी जांच करेंगे. मैंने महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) से भी हस्तक्षेप करने के लिए बात की है. उम्मीद है कि इस तरह की गलत साइट के पीछे जो लोग हैं उन्हें पकड़ा जाएगा.’

उन्होंने यह भी बताया है, ‘मैंने सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री माननीय अश्विनी वैष्णव जी उन लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का कई बार आग्रह किया जो सुल्लीडील्स जैसे प्लेटफार्म के जरिये महिलाओं को निशाना बना रहे हैं. शर्म की बात है कि इसे नजरअंदाज किया जा रहा है.’इस पर मुंबई पुलिस ने कहा कि उसने मामले का संज्ञान लिया है और संबंधित अधिकारियों को कार्रवाई करने के लिए कहा गया है.

Leave a Reply