Big Breaking: भगोड़ा Nirav Modi आ सकता है भारत, पढ़िये पूरी ख़बर

14,000 करोड़ रुपये का घोटाला करने वाले नीरव मोदी को यूके कोर्ट ने भारत भेजने की मंज़ूरी दे दी है

पंजाब नेशनल बैंक को करोड़ों की चपत लगाकर विदेश भागने वाला नीरव मोदी भारत आ सकते हैं। दरअसल नीरव भारत से भागने के बाद यूके (United Kingdom) में रह रहे थे। भारत सरकार काफ़ी समय से उसे वापिस लाने का प्रयास कर रही है। मार्च 2019 में यूके पुलिस ने नीरव को गिरफ़्तार कर लिया था। तब से नीरव वांड्सवर्थ जेल में रह रहे थे। नीरव मोदी का भारत प्रत्यार्पण होगा या नहीं इसका फ़ैसला 25 फ़रवरी को होना था।

कोरोना की पाबंदियों के कारण नीरव मोदी वीडियो लिंक के ज़रिये कोर्ट में मौजूद रहे। इस दौरान नीरव मोदी बढ़ी दाढ़ी में दिखे। भारत सरकार की तरफ से इस मामले की पैरवी अदालत में ब्रिटेन की क्राउन अभियोजन सेवा (क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस) बहस कर रही थी। मामले की सुनवाई कर रहे लंदन के वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट को बताया गया था कि हीरा व्यापारी एक पोंजी जैसी स्कीम के लिए ज़िम्मेदार है जिसकी वजह से भारत के पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) में बहुत बड़ा ग़बन हुआ। केस में फ़ैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा कि मुंबई की आर्थर रोड जेल उनके लिए ठीक रहेगी। तब तक नीरव को कस्टडी में रखा जाएगा।

नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण पर अंतिम फ़ैसला सुनाते हुए जस्टिस सैमुअल गूज़ी ने कहा कि नीरव मोदी पर जो आरोप हैं उसके जवाब उन्हें भारत में देने चाहिए।

जज ने कहा, “प्रथमदृष्टया ये मामला पैसों की धोखाधड़ी से जुड़ा हुआ है.” कोर्ट ने भारतीय पक्ष की दलील को माना और कहा कि इस मामले में गवाहों को बहकाया गया है और सबूतों के साथ छेड़छाड़ की गई है। जज ने यह भी कहा कि कोर्ट को यक़ीन है कि अगर नीरव को भारत प्रत्यर्पित किया जाता है तो वो भी अपनी पक्ष रख सकेंगे। ऐसा नहीं लगता कि यदि उन्हें भारत प्रत्यर्पित किया जाए तो उन्हें न्याय नहीं मिलेगा।

कोर्ट ने फ़ैसला किया है कि मुंबई की आर्थर रोड जेल नीरव मोदी के लिए सुरक्षित रहेगी। जेल की सुरक्षा पर बात करते हुए कोर्ट ने कहा कि जेल में नीरव की सुरक्षा को लेकर कोर्ट आश्वस्त है।

कोर्ट ने कहा, “मुंबई के आर्थर रोड जेल का कमरा 12 (बैरक नंबर 12) उनके लिए ठीक है। ये एक बड़ा कमरा है जिसमें उन्हें एक बिस्तर, एक बाथरूम मिलेगा, कमरे में रोशनी भी आती है।”

“जेलों में अधिक संख्या में कैदियों के होने की बात कही जाती है लेकिन आर्थर रोड जेल का बैरक नंबर 12 बीस फीट लंबा और 15 फीट चौड़ा है, इसमें पंखा लगा है और ट्यूबलाइटें भी हैं। यहां मच्छर न हों उसलिए सप्ताह में एक बार यहां दवा भी छिड़की जाती है।”

जज ने कहा, “अगस्त 2020 में जेल के जो वीडियो कोर्ट में पेश किए गए थे उनमें देखा जा सकता है कि वहां सफाई की और शौच की अच्छी व्यवस्था है।” नीरव मोदी ने कोर्ट में यह दलील दी थी कि उनकी मानसिक हालत ठीक नहीं है। इसपर कोर्ट ने कहा है कि ऐसी स्थिति में किसी भी व्यक्ति की मानसिक स्थिति ख़राब हो सकती है।

भारत सरकार नीरव को वापिस लाने की तैयारियों में जुट गई है। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने आज एक प्रेस वार्ता में कहा भारत सरकार ब्रितानी अधिकारियों से चर्चा करेगी ताकि नीरव मोदी को जल्द भारत लाया जा सके।

UK COURT
UK COURT

क्या है पूरा मामला ?

नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक से 14,000 करोड़ रुपये ग़बन करने का आरोप है। इस मामले में सीबीआई और ईडी ने अलग-अलग मामले दर्ज किए हैं। सीबीआई ने नीरव मोदी के ख़िलाफ़ जो दो मामले दर्ज किए हैं उनमें नीरव मोदी की बहन पूर्वी मेहता और उनके पति मयंक मेहता को अभियुक्त नहीं बनाया गया है।

हालांकि पूर्वी और मयंक ने अपने आप को नीरव मोदी से बिलकुल अलग कर लिया है। पूर्वी और मयंक के वकील अमित देसाई के अनुसार दोनों की निजी ज़िंदगी पर नीरव मोदी की करतूतों की वजह से बुरा असर पड़ा है.

Leave a Reply